Mark Zuckerberg biography in Hindi | मार्क जुकरबर्ग का जीवन परिचय।

मार्क जुकरबर्ग कौन है? 

मार्क इलियट जुकरबर्ग एक अमेरिकी इंटरनेट एंटरप्रेन्योर और परोपकारी हैं। वह फेसबुक, के सह-संस्थापक, शेयरधारक और सीईओ हैं। 2008 से, टाइम पत्रिका ने जुकरबर्ग को दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में नामित किया है। दिसंबर 2016 में, फोर्ब्स ने जुकरबर्ग को दुनिया के सबसे शक्तिशाली लोगों में 10 वां स्थान दिया था।

मार्क जुकरबर्ग का जीवन परिचय।

पूरा नाममार्क इलियट जुकरबर्ग
जन्म14 मई 1984
जन्म स्थानवाइट प्लेन्स, न्यू यॉर्क,
U.S ( White Plains,
New York, USA )
आयु/उम्र37 वर्ष ( जुलाई 2021 तक )
जन्मदिन 14 मई
व्यवसाय एंटरप्रेन्योर
टाइटलफेसबुक के सह-संस्थापक
और सीईओ
राष्ट्रीयता अमेरिकन
नेट वर्थ US$132 billion
(5 जुलाई 2021 तक)

व्यक्तिगत जानकारी

पिताएडवर्ड जुकरबर्ग
माता करेन जुकरबर्ग
(Karen Zuckerberg)
बहन रैंडी जुकरबर्ग
(Randi Zuckerberg)
& डोना जुकरबर्ग 
(Donna Zuckerberg)
जीवन संगिनिप्रिसिला चैन (Priscilla Chan)
बच्चेमैक्स (Max) और
अगस्त (August)

Mark Zuckerberg Biography in Hindi – मार्क जुकरबर्ग की जीवनी।

Mark Zuckerberg Biography in Hindi
Mark Zuckerberg Biography in Hindi

मार्क जुकरबर्ग की कहानी

मार्क जुकरबर्ग का प्रारंभिक जीवन ( मार्क जुकरबर्ग का जीवन )

मार्क जुकरबर्ग का जन्म 14 मई 1984 को व्हाइट प्लेन्स, न्यूयॉर्क, यूएसए में हुआ था। उनके पिता का नाम एडवर्ड जुकरबर्ग है, जो एक डेंटिस्ट थे, उनका एक क्लिनिक भी था। मार्क जुकरबर्ग की मां का नाम करेन जुकरबर्ग है, जो एक मनोचिकित्सक थी। मार्क की दो बहनें भी हैं, रैंडी जुकरबर्ग (Randi Zuckerberg) और डोना जुकरबर्ग (Donna Zuckerberg)।

जुकरबर्ग बचपन में अपना ज्यादातर समय कंप्यूटर पर बिताते थे, उन्हें कंप्यूटर चलाना, गेम खेलना, कोडिंग करना पसंद था। मार्क ने छोटी उम्र से ही प्रोग्राम लिखना शुरू कर दिया था, उन्हें थोड़ी बहुत कोडिंग आती थी, यह सब उन्होंने अपने पिता और अपनी मेहनत से सीखा था।

कंप्यूटर के प्रति जुकरबर्ग के जुनून को देखते हुए, उनके पिता एडवर्ड जुकरबर्ग ने मार्क के साथ काम करने और उन्हें सप्ताह में एक दिन कंप्यूटर सिखाने के लिए डेविड नुमा (David Newman) नाम का एक पर्सनल कंप्यूटर कोच नियुक्त किया।

बारह साल की उम्र में, मार्क जुकरबर्ग ने खुद कोड किया और ज़ुक नेट (Zuck Net) नामक एक प्रोग्राम बनाया। इस प्रोग्राम का उपयोग उनके पिता अपने क्लिनिक में किया करते थे। इसका काम केबिन से बिना बाहर आए दूसरे मरीज को बुलाना था। इससे उनके पिता को काफी मदद मिली। मार्क जुकरबर्ग इस प्रोग्राम को एक मैसेंजर के तौर पर भी इस्तेमाल करते थे।

कुछ समय बाद उनके पिता एडवर्ड जुकरबर्ग ने मार्क का एडमिशन हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में करा दिया। उस समय तक मार्क जुकरबर्ग को प्रोग्रामिंग का अच्छा ज्ञान था। अपने कोडिंग कौशल का उपयोग करके, उन्होंने एक बुद्धिमान संगीत प्लेयर बनाया जिसका काम लोगों के व्यवहार के अनुसार उनकी पसंद के गानों की एक सूची बनाना था।

Facemash की सुरुवात ( Mark Zuckerberg Biography in Hindi )

Mark Zuckerberg biography in Hindi
Facemash

हावर्ड विश्वविद्यालय में सब कुछ, बच्चों की तस्वीरों से लेकर जन्म तिथि तक, हावर्ड विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर थी। यही पुरानी तस्वीरें मार्कशीट से लेकर हर जगह इस्तेमाल की जाती थी। इसलिए मार्क जुकरबर्ग ने हॉवर्ड यूनिवर्सिटी की वेबसाइट का डेटाबेस हैक कर लिया ताकि वह अपनी तस्वीरें बदल सकें, लेकिन इसका एक और कारण था। क्योंकि मार्क जुकरबर्ग ने फेसमैश (Facemash) नाम से एक वेबसाइट बनाई थी, जिसमें उन्हें यूनिवर्सिटी के सभी बच्चों के फोटो चाहिए थे।

फेसमैश (Facemash) थोड़ा टिंडर जैसा था। जिसमें आपको दो लड़कियों की फोटो दिखाई देती थी और इसमें आपको दो ऑप्शन भी मिलते थे कि यह लड़की हॉट है या नहीं। यह वेबसाइट विश्वविद्यालय में बहुत प्रसिद्ध हुई। लेकिन कुछ लोगों को इस वेबसाइट से आपत्ति भी थी। हावर्ड के प्रशासन को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की वेबसाइट के डेटा बेस के हैक होने के बारे में पता चलने के बाद मार्क जुकरबर्ग को पब्लिक के सामने माफी मांगनी पड़ी थी।

Facebook ki Kahani ( Facebook की कहानी )

Facebook ki Kahani

4 फरवरी 2004 एक ऐतिहासिक दिन इसी दिन मार्क जुकरबर्ग ने एक डोमेन नाम ( Domain Name ) को रजिस्टर किया जो था thefacebook। इस वेबसाइट के जरिये मार्क यूनिवर्सिटी के सभी स्टूडेंट्स को आपस मे जोड़ना चाहते थे। मार्क जुकरबर्ग को इस प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए पैसे की आवश्कता थी। मार्क के एक दोस्त एडवार्डों सेवरिंने (Edwardo Sevrinne) ने thefacebook में ज्यादा तर पैसा निवेश किया। कुछ समय बाद अपना पूरा ध्यान thefacebook पर लगाने के लिए उन्होंने अपने कॉलेज को बीच मे ही छोड़ दिया। उंन्हे Facebook को बड़ा बनने के लिए और निवेश की आवश्यकता थी।

Ritesh Agarwal Biography in Hindi – रितेश अग्रवाल की जीवनी।

2005 में thefacebook का नाम बदलकर facebook कर दिया गया। 1 अक्टूबर 2005 तक, फेसबुक का विस्तार 21 विश्वविद्यालयों तक हो गया था। यूनिवर्सिटी के बच्चों के बीच फेसबुक काफी मशहूर हो गया, जिससे फेसबुक पर ट्रैफिक बढ़ता रहा। उसी वर्ष, थिल पार्टनर (Thill Partner) ने फेसबुक में $ 5 मिलियन का निवेश करके फेसबुक में 10.6% हिस्सेदारी खरीद ली।

अप्रैल 2005 में Accel Partners ने भी फेसबुक में 13% की हिस्सेदारी खरीद ली।

अप्रैल 2006 में facebook में अलग – अलग कई जगह से निवेश आया करीब 2.5 मिलियन डॉलर का ये निवेश Greylock Partners, Meritech Capital द्वारा किया गया था। इस समय तक फेसबुक की वैल्यूएशन ( Valuation ) $500 मिलियन डॉलर हो चुकी थी। इसी साल मार्क जुकरबर्ग पालो आल्टो कैलिफ़ोर्निया आ गए। वहाँ पर फेसबुक का नया ऑफिस खोला। 

सप्टेंबर 2006 में याहू ( Yahoo ) ने फेसबुक को 1 बिलियन डॉलर का ऑफर दिया। लेकिन मार्क जुकरबर्ग ने इसे ये कहते हुए ठुकरा दिया कि इनकी कंपनी की वैल्यूएशन ( Valuation ) 8 बिलियन डॉलर है। 26 सितंबर 2006 को फेसबुक को सबके लिए खोल दिया गया। पहले ये केवल यूनिवर्सिटीज तक कि फेमस था।

17 जुलाई 2007 को मार्क जुकरबर्ग ने अपनी कंपनी फेसबुक को बेचने से मना कर दिया कहा कि मैं ही इसका मालिक रहूँगा। मैं और लोगो हिस्सेदार बना सकता हूं लेकिन मैं अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच नही सकता। 2007 में लगभग फेसबुक पर करीबन 1 लाख से ज्यादा बिज़नेस पेजेज बन चुके थे।

24 अक्टूबर 2007 को माइक्रोसॉफ्ट ने भी फेसबुक में 240 मिलियन डॉलर के शेयर्स खरीद लिए। इसके एक महीने बाद हांगकांग के अरबपति ने भी 60 मिलियन डॉलर का निवेश किया।

मई 2008 में, मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक कनेक्ट की शुरुआत की, विभिन्न वेबसाइटों पर फेसबुक के साथ साइन इन करने का विकल्प दिया। यह मार्क जुकरबर्ग द्वारा खेला गया सबसे बड़ा मास्टरस्ट्रोक था जिसके कारण फेसबुक पूरे बाजार पर कब्जा करने में सक्षम हो पाया।

फरवरी 2011 तक फेसबुक पर 100 बिलियन से भी ज्यादा फोटोज पोस्ट हो चुकी थी। 

अप्रैल 2012 में फेसबुक ने इंस्टाग्राम को 1 बिलियन डॉलर में खरीद लिया। आज इंस्टाकग्राम दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले प्लेटफॉर्म में से एक है।

सन 2012, फेसबुक के लिए सबसे बड़ा दिन फेसबुक को 1 बिलियन डॉलर का मुनाफा हुआ। फरवरी 2012 में फेसबुक ने IPO के माध्यम से स्टॉक मार्केट से 5 बिलियन डॉलर उठाये। फेसबुक लगातार विस्तार कर रहा था इसलिए फेसबुक लगातार फंडिंग ( Funding ) उठा रहा था। मार्क ने अपने पास 22% हिस्सेदारी के साथ – साथ 57% वोटिंग राइट्स ( Voting Rights ) भी रख लिए। ताकि निर्णय लेने की पावर उनके पास रहे।

मार्क जुकरबर्ग की जीवन संगिनी प्रिसिला चैन ( Priscilla Chan )

प्रिसिला चैन चीनी मूल की है मार्क जुकरबर्ग और प्रिसिला चैन ने काफी वक्त एक साथ बिताया था। इसीलिए 19 मई 2012 को उन दोनों ने शादी कर ली। इस समय मार्क जुकरबर्ग और प्रिसिला चैन की दो प्यारी बेटियां भी है पहली बेटी का नाक मैक्स ( Max ) और दूसरी बेटी का अगस्त ( August ) है।

सन 2014 में Facebook ने 19 बिलियन डॉलर में व्हाट्सएप्प ( Whatsapp ) को खरीद लिया।

30 सितंबर 2018 को फेसबुक ने 13.17 बिलियन डॉलर आय की घोषणा की। आज हम सब जानते कि फेसबुक दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है।

Mark Zuckerberg की रणनीतियाँ

अब हम बात करते है मार्क जुकरबर्ग की रणनीतियो के बारे में हम मार्क ज़ुकेरबर्ग से बहुत कुछ सीख सकते है। इसे कहते है लीडर उंन्हे पता था कि व्हाट्सएप्प ( Whatsapp ) और इंस्टाग्राम ( Instagram ) भविष्य में फेसबुक के लिए बहुत बड़ा रोड़ा बन सकते है इसीलिए उन्होंने दोनों को खरीद लिया ये डील फेसबुक के लिए अच्छी भी साबित हुई। 

मार्क जुकरबर्ग के पास Facebook की 22% हिस्सेदारी होते हुए भी उन्होंने अपने पास 57% के वोटिंग राइट्स रख लिए। ताकि सारे फैसले वो खुद ले सकें।

फेसबुक पैसे कैसे कमाता है? ( How facebook earn money in Hindi ) 

Facebook Business Model in Hindi

How facebook earn money in Hindi

करोड़ो लोग Facebook का उपयोग करते हैं और हर कोई Facebook पर अपनी प्रोफ़ाइल बनाता है, जिसमें उनकी जन्मतिथि, पता और अन्य जानकारी होती है। फेसबुक हमारे व्यवहार को ट्रैक करता है। फेसबुक लोगो की पसंद या व्यवहार के अनुसार उत्पादों और सेवाओं के विज्ञापन दिखाता हैं। पब्लिक फेसबुक के लिए एक उत्पाद है, जिसे विज्ञापन दिखाकर फेसबुक पैसा कमाता है।

कंपनियां अपने उत्पादों को ज्यादा लोगो तक पहुचने लिए फेसबुक का ही उपयोग क्यों करती है?

1- फेसबुक दुनिया के 5 सबसे ज्यादा डाउनलोड किए गए ऐप में से एक है। फेसबुक का इस्तेमाल दुनिया भर में करोड़ो लोग करते हैं।

2- पुरुषों या महिलाओं, लोगों की उम्र और स्थान के आधार पर फेसबुक पर विज्ञापन दिखाए जा सकते हैं, ताकि उत्पाद को कम कीमत पर सही लोगों तक पहुंचाया जा सके।

उदाहरण के लिए – अगर किसी कंपनी को शर्ट बेचनी है तो वह विज्ञापन के जरिए सिर्फ पुरुषों को टारगेट कर सकती है। अगर कंपनी चाहे तो किसी खास लोकेशन के लोगों को ही विज्ञापन दिखा सकती है।

 3- फेसबुक पर विज्ञापन चलाना बहुत ही सस्ता और आसान है।

विवाद

Facebook – Cambridge Analytica ( CA ) – 2016 US election विवाद 

Cambridge Analytica ( CA ) ब्रिटेन की एक डेटा कंपनी है जिसके मालिक रोबर्ट मर्सर है। रोबर्ट मर्सर एक अरबपति है जो US की रिपब्लिकन पार्टी ( Republican Party ) को फंडिंग देते है।

Cambridge Analytica ( CA ) और फेसबुक दोनों पर ये आरोप लगे कि फेसबुक का इस्तेमाल कर के 5 करोड़ अमेरिकन्स का व्यवहार बदला गया है।

Cambridge Analytica ( CA ) पर आरोप लगे कि इन्होंने फेसबुक का डेटा चुराकर 5 करोड़ लोगो एसे विज्ञापन दिखाए जो रिपब्लिकन पार्टी को सपोर्ट कर रहे थे।

मार्क जुकरबर्ग के बारे में तथ्य। | Facts about Mark Zuckerberg in Hindi

1- मार्क जुकरबर्ग 23 साल के उम्र में ही खुद अपने दम पर एक billionaire बन गए थे।

2- सन 2010 से Time Magazine ने मार्क जुकरबर्ग को दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों में गिनना सुरु कर दिया था।

3- दिसम्बर 2016 मार्क जुकरबर्ग को Forbes ने दसवाँ पायदान दिया दुनिया के सबसे शाक्तिशाली व्यक्तियों में।

मार्क जुकरबर्ग के विचार ( Mark Zuckerberg quotes in Hindi )

“अरबों लोगों को जोड़ने में मदद करना अद्भुत, विनम्र है और अब तक मुझे अपने जीवन मे सबसे अधिक गर्व है।”

Mark Zuckerberg

                                     “सबसे बड़ा जोखिम है कि कोई जोखिम ना लेना।”

Mark Zuckerberg

“लोग इस बात की परवाह नहीं करते कि आप क्या कहते हैं, वे इस बात की परवाह करते है कि आप क्या बनते हैं।”

Mark Zuckerberg

                    “उस चीज को खोजें जिसके बारे में आप के अंदर बहुत ज्यादा जुनून हो।”

Mark Zuckerberg

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1- फेसबुक के संस्थापक कौन है?

मार्क जुकरबर्ग

प्रश्न 2- फेसबुक के सीईओ कौन है?

मार्क जुकरबर्ग

प्रश्न 3- फेसबुक की स्थापना कब हुई?

सन 2004

प्रश्न 4- फेसबुक को किसने बनाया?

फेसबुक की सुरूवाती कोडिंग मार्क जुकरबर्ग ने खुद की थी। लेकिन जो फेसबुक हम आज देखते है उसे हजारो प्रोग्रामर्स ने मिलकर बनाया है।

ये थी Mark Zuckerberg biography in Hindi – ( मार्क जुकरबर्ग की जीवनी ), Mark Zuckerberg story in Hindi बहुत से लोगो के लिए प्रेरणादायक है। वो दुनिया के 10 सबसे अमीर और शक्तिशाली लोगो मे से एक है। आज फेसबुक पूरी मार्किट पर अकेले ही राज कर रहा है। हम ये भी कह सकते है कि फेसबुक की मोनोपोली है।

1 thought on “Mark Zuckerberg biography in Hindi | मार्क जुकरबर्ग का जीवन परिचय।”

Leave a Comment