मेजर शैतान सिंह का जीवन परिचय। | Major Shaitan Singh Biography in Hindi

मेजर शैतान सिंह कौन थे? 

मेजर शैतान सिंह भाटी एक भारतीय सेना अधिकारी थे। उन्होंने रेजांग ला में 120 सैनिकों का नेतृत्व किया और 1300 चीनी सैनिकों को मार गिराया था। 1962 के भारत-चीन युद्ध में उनके अदम्य साहस, नेतृत्व और कर्तव्य के प्रति अनुकरणीय समर्पण के लिए उन्हें सर्वोच्च युद्धकालीन वीरता पदक परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। 

मेजर शैतान सिंह का जीवन परिचय

पूरा नाम मेजर शैतान सिंह भाटी
जन्म 1 दिसंबर 1924
जन्म स्थानजोधपुर, राजस्थान,
भारत
मृत्यु18 नवंबर 1962
(1962 के भारत-चीन
युद्ध के दौरान 37 वर्ष
की आयु में)
मृत्यु स्थानरेजांग ला, केंद्र शासित
प्रदेश लद्दाख
सेवा भारतीय सेना
रैंकमेजर
लड़ाई का
हिस्सा
नागालैंड में संघर्ष 
1961 गोवा का विलय
भारत-चीन युद्ध 1962
*रेजांग ला की लड़ाई
पुरस्कार परिम वीर चक्र (भारत का
सर्वोच्च सैन्य पुरस्कार)
शिक्षा चौपासनी सीनियर
सेकेंडरी स्कूल, जोधपुर
& जसवंत कॉलेज

मेजर शैतान सिंह का परिवार

पिता हेम सिंह भाटी
(लेफ्टिनेंट कर्नल)
मांN/A
भाई-बहन N/A
पत्नी/
जीवनसंगिनी
शगुन कंवर
बच्चे N/A

मेजर शैतान सिंह की जीवनी। | Major Shaitan Singh Biography in Hindi

मेजर शैतान सिंह की कहानी।

शैतान सिंह का जन्म 1 दिसंबर 1924 को राजस्थान के जोधपुर के बनासर गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम हेम सिंह था जो की एक लेफ्टिनेंट कर्नल थे। उनके पिता लेफ्टिनेंट कर्नल हेम सिंह ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारतीय सेना के साथ फ्रांस में सेवा की, और उन्हें ब्रिटिश सरकार द्वारा ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर (ओबीई) से सम्मानित किया गया था।

सिंह ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा चोपासनी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, जोधपुर से की। वह अपने स्कूल के दिनों में एक फुटबॉल खिलाड़ी के रूप में अपने कौशल के लिए जाने जाते थे। 1943 में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, सिंह स्नातक के लिए जसवंत कॉलेज गए, और 1947 में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। 

मिलिट्री करियर

1 अगस्त 1949 को, वे एक अधिकारी के रूप में जोधपुर राज्य सेना में शामिल हुए। जब जोधपुर रियासत का भारत में विलय हुआ, तो शैतान सिंह को कुमाऊं रेजिमेंट में स्थानांतरित कर दिया गया। उन्हें 25 नवंबर 1955 को कप्तान के रूप में पदोन्नत किया गया, और वह नागा हिल्स के ऑपरेशन और 1961 में गोवा के भारतीय विलय का हिस्सा थे। 11 जून 1962 को उन्हें कैप्टन से मेजर के पद पर पदोन्नत किया गया था।

1962 भारत-चीन युद्ध

1962 में सीमा विवाद और भारत और चीन के बीच कई हिंसक झड़पों के बाद युद्ध छिड़ गया।

रेजांग ला की लड़ाई 1962

मेजर शैतान सिंह की शौर्य (वीर) गाथा।

1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान, 120 सैनिकों वाली कुमाऊं रेजिमेंट की 13वीं बटालियन समुद्र तल से 5,000 मीटर (16,000 फीट) की ऊंचाई पर चुसुल सेक्टर के रेजांग ला में मेजर शैतान सिंह के नेतृत्व में तैनात थी।

रेजांग ला एक पहाड़ी दर्रा था जिसे चीनी सेना से किसी भी तरह की घुसपैठ को रोकने के लिए संरक्षित किया जाना भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण था। चुशुल घाटी में एक हवाई पट्टी थी जो उस क्षेत्र में निरंतर भारतीय वायु सेना के संचालन और लद्दाख क्षेत्र को सुरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण थी।

18 नवंबर की सुबह थी. लद्दाख की चुशुल घाटी पूरी तरह से बर्फ से ढकी हुई थी, घाटी में शांत माहौल था लेकिन अचानक सुबह करीब साढ़े तीन बजे फायरिंग शुरू हो गई। चीन ने बड़ी सेना के साथ आक्रमण कर दिया। 

भारतीय सैनिकों की संख्या कम होने के कारण, सिंह ने बेस से मदद मांगी लेकिन उनसे कहा गया कि मदद भेजना संभव नही है वह पोस्ट खाली करके पीछे हट जाए. लेकिन शैतान सिंह ने पोस्ट खाली करने से मना कर दिया उन्होंने अखीरी दम तक लड़ने का फैसला किया।

युद्ध में मेजर शैतान सिंह लड़ते रहे और बिना किसी कवर के सैनिकों को प्रेरित करते हुए एक पलटन से दूसरी पलटन में जाते रहे। इस दौरान वह काफी घायल हो गए और जब दो सैनिकों ने उसे उठाया तो चीनी सैनिकों ने भारी गोलाबारी शुरू कर दी। खतरे को देखते हुए उन्होंने दोनों सैनिकों को उंन्हे इसी स्थिति में छोड़ने का आदेश दिया और उन सैनिकों ने उंन्हे एक बर्फ की चट्टान के पीछे बैठा दिया, जहां उन्होंने लड़ते हुए अंतिम सांस ली।

लड़ते हुए 120 में 114 जवान शहीद हो गए और बाकी 6 को बंदी बना लिया गया। इस युद्ध में केवल 120 जवानों ने चीन के 1300 सैनिकों को मार गिराया। 1962 के युद्ध मे चीन को सबसे ज्यादा नुकसान रेजांग ला में ही हुआ था। 

युद्ध की समाप्ति के तीन महीने बाद, जैसे ही बर्फ पिघलनी शुरू हुई, रेड क्रॉस सोसाइटी और सेना ने उसकी तलाश शुरू की और उसी बर्फ की चट्टान के पास बर्फ में बंदूक के साथ उनका शव मिला। फिर उनके शव को विमान से जोधपुर ले जाया गया और सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। 

शैतान सिंह की मूर्ति को उनके शहर जोधपुर में एक चौक पर लगाया गया और उनके सम्मान में उनके गांव का नाम बदलकर शैतान सिंह नगर कर दिया गया।

नवंबर 1962 में उनके अदम्य साहस, नेतृत्व और कर्तव्य के प्रति अनुकरणीय समर्पण के लिए उन्हें सर्वोच्च युद्धकालीन वीरता पदक परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया।

Leave a Comment