डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) क्या है? | DBT के लाभ और उद्देश्य क्या है?

देश के सभी लोग सरकार की किसी न किसी योजना का लाभ उठाते हैं, या सब्सिडी प्राप्त करते हैं, तो आप लोगों ने कभी न कभी DBT का नाम तो सुना ही होगा, लेकिन आज भी अधिकांश लोगों को यह नहीं पता कि DBT kya hai और इसके लाभ क्या है?

भारत में डीबीटी की शुरुआत 1 जनवरी 2013 को हुई थी और इसका प्रभाव सकारात्मक रहा है।

प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण क्या है? | DBT kya hai

DBT kya hai
DBT kya hai

डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर भारत सरकार द्वारा सब्सिडी के हस्तांतरण के तंत्र को बदलने का एक प्रयास है जिसे 1 जनवरी 2013 को शुरू किया गया था। DBT का उद्देश्य लीकेज, देरी और भ्रष्टाचार को कम करके लोगों को सीधे उनके बैंक खातों के माध्यम से सब्सिडी हस्तांतरित करना है। 

सरल शब्दों में DBT लोगों को लाभ देने का एक डिजिटल तरीका है, जिसमें सरकार सीधे लोगों के बैंक खातों में पैसा ट्रांसफर करती है।

प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण दुनिया में व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली अवधारणा है।

यदि आपको ज्ञात हो, तो पहले सरकार नकद भुगतान या वस्तुओं और सेवाओं पर छूट के माध्यम से सब्सिडी देती थी, लेकिन इसका एक बड़ा दोष यह था कि भ्रष्टाचार के कारण लोगों को पूरा लाभ नहीं मिल पाता था. डीबीटी इसी समस्या को दूर करने का एक प्रयास है।

सितंबर 2021 तक केंद्र सरकार के 54 मंत्रालयों की 311 योजनाएं DBT के तहत हैं, ये आंकड़े DBT की सफलता को दर्शाते हैं।

यह भी पढ़ें – e-Rupi (ईरुपी) क्या है? इसके उपयोग और फायदे क्या हैं?

DBT Full Form in Hindi

DBT – Direct Benefit Transfer

DBT का full form है Direct Benefit Transfer, Direct Benefit Transfer को हम हिंदी में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण कहते है।

DBT के उदाहरण

पीएम किसान योजना, इस योजना के तहत, सरकार हर साल किसानों को ₹6000 देती है, यह राशि सीधे किसानों के खाते में स्थानांतरित की जाती है।

डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के उद्देश्य

डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर का प्राथमिक उद्देश्य भारत सरकार द्वारा नागरिकों को हस्तांतरित लाभ के वितरण में पारदर्शिता लाना और चोरी को समाप्त करना है।

DBT के लाभ (फायदे) | Benefits of DBT in Hindi

  • डीबीटी के माध्यम से लाभ सीधे लोगों के खाते में स्थानांतरित किया जाता है, इससे बिचौलियों द्वारा की जाने वाली चोरी को रोका जा सकता है।
  • इससे लोगों तक लाभ पहुंचाने में होने वाली देरी को कम किया जा सकता है।
  • मंदी के दौरान बहुत ही कम समय में डीबीटी के जरिए गरीब लोगों के हाथ में पैसा पहुंचा जा सकता है, जिससे बाजार में तरलता बढ़ेगी और अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर आएगी।

निष्कर्ष

केंद्र सरकार की 311 योजनाओं का डीबीटी के तहत होना इसकी सफलता को दर्शाता है, इसका प्रभाव सकारात्मक रहा है।

लगातार पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1- DBT का फुल फॉर्म क्या है?

DBT का फुल फॉर्म डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर है।

आज आपने क्या सीखा

आज के लेख में हमने जाना कि Direct Benefit Transfer (DBT) क्या होता है? | डीबीटी के लाभ और उद्देश्य क्या हैं?

अगर इस लेख से संबंधित आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, अगर आपको हमारा लेख DBT Kya Hai पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं।

Leave a Comment