राजकोषीय घाटे और राजस्व घाटे में क्या अंतर है?

राजकोषीय घाटे और राजस्व घाटे में क्या अंतर है?

राजकोषीय घाटा सरकार द्वारा अपने खर्च को पूरा करने के लिए लिए गए कुल उधार को संदर्भित करता है। दूसरी ओर, राजस्व घाटा राजस्व व्यय की तुलना में राजस्व प्राप्तियों की कमी को दर्शाता है।

विकासशील देशों के लिए कुछ हद तक राजकोषीय घाटा सही है, क्योंकि एक विकासशील देश में सरकार को अधिक खर्च करने की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, राजस्व घाटा किसी भी देश के लिए बुरा माना जाता है क्योंकि राजस्व घाटा दर्शाता है कि सरकार को अपने दैनिक खर्चों को पूरा करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है या उधार लेना पड़ रहा है।

राजकोषीय घाटे और राजस्व घाटे की गणना कैसे की जाती है?

उदाहरण के लिए –

मान लीजिए,

सरकारी का व्यय 

(करोड़ों में सभी मूल्य)

1- राजस्व व्यय = ₹40000

2- पूंजीगत व्यय = ₹60000

3- कुल व्यय (1 + 2) = ₹40000 + ₹60000 = ₹100000

सरकारी प्राप्तियां –

4- राजस्व प्राप्तियां = ₹30000

5- पूंजी प्राप्तियां = ₹70000

5a) ऋण वसूली और अन्य रसीदें = ₹30000

5b) उधार और अन्य देयताएं = ₹40000

राजस्व घाटे के सूत्र का उपयोग करे

राजस्व घाटा = राजस्व व्यय – राजस्व प्राप्तियां

राजस्व घाटा (1 – 4 ) = ₹ 40000 – ₹30000 = ₹10000

राजस्व घाटा = ₹10000

राजकोषीय घाटे का सूत्र उपयोग करें

राजकोषीय घाटा = कुल व्यय – कुल प्राप्तियां (उधार और अन्य देनदारियों को छोड़कर)

राजकोषीय घाटा (3 – 4 + 5a) =  ₹100000 – ₹30000 + ₹30000 = ₹40000

राजकोषीय घाटा ₹40000

Leave a Comment